म्यांमार सेना ने बरपाया रोहिंग्या मुसलमानों पर कहर

म्यांमार में दिन प्रतिदिन बढती हिंसा के मामले रोजाना सामने आ रहे है कुछ हफ्तों पहले शुरू हुई हिंसा में सौ से ज्यादा रोहिंग्या मुसलमान मारे जा चुके हैं। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार करीब कई लाख रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश एवं अन्य देशों में पलायन भी कर चुके हैं। रोहिंग्या मुसलमानों का आरोप है कि उसके म्यांमार की सेना रोहिंग्या की “हत्या” कर रही है। कतर की समाचार संस्था अल जज़ीरा ने अपनी एक रिपोर्ट में बांग्लादेश भागकर आयी एक रोहिंग्या पीड़िता से बातचीत की है।

आपको बता दे कि 25 वर्षीय राशिदा म्यांमार के सर्वाधिक हिंसा प्रभावित रखाइन प्रांत की रहने वाली हैं। रिपोर्ट के अनुसार राशिदा सितंबर के पहले हफ्ते में ही बांग्लादेश पहुंची।
राशिदा ने अल जज़ीरा को बताया, “…मैं एक बेहद सामान्य और शांतिपूर्ण जीवन जीती थी। हमारे पास धान के खेत थे जिन पर हम खेती करते थे। मेरे पास घर था, पति था और तीन बच्चे थे। सबकुछ शांतिपूर्ण था जब तक कि हिंसा नहीं शुरू हुई।” राशिदा का परिवार अपना सबकुछ छोड़कर बांग्लादेश पहुंचा है। राशिदा ने कहा, “हमारे खेत और घर जला दिए गए। अब वहां हम जीवन नहीं चला सकते थे।”

राशिदा के अनुसार सेना ने गांववालों पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं। राशिदा ने बताया, “जब सेना ने हमारे गांव पर अंधाधुंध गोलिया चलानी शुरू की तो मैं अपने बच्चों को लेकर जंगल में भागी और उन्हें छिपा दिया। जंगल में वो काफी डरे हुए थे। जब मैं दोबारा घर गई तो देखा कि कई लोग गोलियों से मारे जा चुके हैं। जंगल के रास्त से होते हुए हम आठ दिन पैदल चलकर सीमा पर पहुंचे। हमें बहुत भूख लगी थी। हमारे पास पेड़ों के पत्ते के अलावा खाने के लिए कुछ नहीं था। बच्चे खाना मांग रहे थे लेकिन हमारे पास कुछ नहीं था।”

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *