अंडर-19 वर्ल्ड कप का हुआ आगाज़, भारत की जीत की वजह बने भारतीय गेंदबाज कमलेश नागरकोटी

अंडर-19 वर्ल्ड कप का आगाज़ हो चुका है| भारत का पहला मैच आस्ट्रेलिया के साथ था और इस मैच मे भारत ने जीत हासिल कर ली है, वही भारत की तरफ से खेल रहे 18 वर्षीय भारतीय गेंदबाज कमलेश नागरकोटी ने अपनी गति से सबको चौंका दिया है। आस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा मैच में उन्होंने 146 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकी है। वह लगातार 140 किमी की रफ्तार से गेंद डाल रहे हैं। उनके गेंदबाजी आक्रमण का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मैच में उन्होने तीन विकेट हासिल किए हैं। उन्होंने सात ओवर में महज 29 रन दिए। खास बात यह रही कि उन्होंने ही टीम के लिए पहला विकेट लिया और जीत की दिशा में बढ़ रही ऑस्ट्रलियाई टीम के रनों पर अंकुश लगाया। इससे पहले पिछले अंडर-19 वर्ल्ड कप में वेस्टइंडीज के युवा गेंदबाज अलजेरी जोसेफ ने 147 किमी प्रति घंटे की औसत से गेंद डालकर सबका ध्यान खींचा था।

{विकेट लेने के बाद खुशी मनाते भारतीय गेंदबाज कमलेश नागरकोटी}

गौरतलब है कि भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए विरोधी आस्ट्रेलियाई टीम के सामने 328 रनों का मुश्किल लक्ष्य रखा था। वही भारतीय टीम के ऊपरी क्रम के सभी बल्लेबाजों ने बेहतरीन बल्लेबाजी की, कप्तान पृथ्वी शॉ ने 94 रन बनाए, वही सलामी बल्लेबाज मंजोत कालरा ने भी 86 रन बनाए और  सुभम गिल ने महज 54 गेंदों में 63 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेलकर सबको चौंका दिया। इस दौरन उन्होंने गगनचुंबी छक्का भी लगाया।

वहीं दूसरी तरफ़ लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की शुरुआत अच्छी रही। 50 रन के स्कोर तक टीम कोई विकेट नहीं गंवाया। मगर भारत के उभरते हुए गेंदबाज कमलेश नागरकोटी की रफ्तार के सामने टीम के विकेट पतन की शुरुआत हो गई। और पूरी टीम 228 रने पर ढेर हो गई।

होना हो भारत की शुरूआत बहुत ही अच्छी रही है| कमलेश नागरकोटी की गेंदबाजी मंजोत कालरा,सुभम गिल और कप्तान पृथ्वी शॉ की बल्लेबाजी की बदौलत भारत ऑस्ट्रेलिया जैसे मजबूत दावेदार को हराने मे कामयाब रही देखना अब यही है की अंडर -19 वर्ल्ड कप का खिताब भारत अपने नाम कर पाती है या नहीं?

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *