केंद्र सरकार ने दिए आंकड़े , 2017 में हुई सबसे ज्यादा सांप्रदायिक घटनाएं

लोकसभा में एक सवाल के जवाब में गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की सबसे ज्यादा 195 घटनाएं यूपी में हुईं इन घटनाओं में 44 लोग मारे गए और 542 घायल हुए। इन आंकड़ो को देखकर कहा जा सकता है साल 2016 के मुकाबले 2017 में सांप्रदायिक घटनाओं की संख्या  में वृद्धि हुई है, जबकि इसके पहले इसमें गिरावट दर्ज की गई थी। 2017 में सांप्रदायिक घटनाओं में 111 लोग मारे गए और 2,384 घायल हुए। साथ ही 2016 में 86 लोगों की मौत हुई थी जबकि घायलों की संख्या 2,321 रही थी।

हंसराज अहीर सदन में कहा कि कर्नाटक में पिछले साल 100 सांप्रदायिक घटनाएं हुईं थी जिनमें 9 लोग मारे गए वहीं 229 घायल हो गए। राजस्थान में भी ऐसी 91 घटनाएं हुईं जिनमें 12 लोग मारे गए और 175 घायल हो गए। उनका कहना है कि 2017 में बिहार में 85 सांप्रदायिक घटनाएं हुईं जिनमें तीन लोगों की मौत हो गई और 321 घायल हो गए। वहीं मध्य प्रदेश में 60 घटनाएं हुईं और इनमें 9 लोग मारे गए साथ ही 191 घायल हो गए। आगे वह बोले कि पिछले साल पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक हिंसा की 58 घटनाएं हुईं, जिनमें 9 लोग मारे गए और 230 घायल हो गए। वहीं गुजरात में भी 50 घटनाएं हुईं और 8 लोग मारे गए तथा 125 घायल हो गए।

21 दिसंबर, 2017 में केंद्र सरकार ने सदन में जो आंकड़े रखे थे, उनमें भाजपा शासित राज्यों  की स्थिति काफी खराब थी। सांप्रदायिक घटनाओं के रिकॉर्ड में लगातार तीसरी बार यूपी और कर्नाटक राज्य  सबसे ऊपर हैं। वहीं 2016 में यूपी में 162 और कर्नाटक में 101 मामले सांप्रदायिक घटनाओं के तहत दर्ज हुए थे। साथ ही 2015 में सांप्रदायिक घटनाओं का आंकड़ा उत्तर प्रदेश में 155, जबकि कर्नाटक में 105 था।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *