राम मंदिर पर बोले मौलाना कल्वे सादिक, आयोध्या में जरूर बने मंदिर लेकिन……

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर इन दिनों एक बार फिर से सियासत गर्मा गई है। एक तरफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अयोध्या से बाबरी मस्जिद को कहीं और शिफ्ट करने की बात करने के लिए अपने कार्यकारी समिति के सदस्य नदवी को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। वहीं दूसरी तरफ इसी राम मंदिर के मुद्दे पर AIMPLB के वाइस प्रेसिडेंट मौलाना कल्बे सादिक ने यूपी के बाराबंकी में एक कार्यक्रम के दौरान अयोध्या मुद्दे पर अपनी बात की शुरूआत जय राम से करते हुए कहा “कि अयोध्या में राम मंदिर जरूर बनना चाहिए, लेकिन विद्या का मंदिर।“ उन्‍होंने कहा कि यह विवाद जब लोग सुलझाना चाहेंगे तो खुद-ब-खुद सुलझ जाएगा। और अगर नहीं चाहेंगे तो कभी नहीं सुलझ सकता लेकिन इस विवाद को अब सुलझा देना चाहिए।

शिया धर्मगुरु ने कहा कि ‘मदरसों की शिक्षा से ज्यादा बेहतर मॉडर्न एजुकेशन है।’ हम जब एजुकेशन की बात करते हैं तो हमारी मुराद होती है मॉडर्न एजुकेशन, न की धार्मिक एजुकेशन। धार्मिक एजुकेशन भी जरूरी है, लेकिन मॉडर्न एजुकेशन ज्यादा जरूरी है। मुस्लिमों पर तंज कसते हुए कल्बे सादिक ने कहा कि, ‘आप मस्जिद जरूर बनाएं लेकिन क्रिश्चन से सीखें। क्रिश्चन का जहां चर्च होता है उससे जुड़ा एक स्कूल जरूर होता है। लेकिन हमारे यहां कितनी मस्जिदें हैं जहां एजुकेशनल इंस्टीट्यूट हैं।’

उन्होंने यह भी कहा कि, ‘मुझे मुसलमानों से प्रॉब्लम आई है। हिन्दुओं से कभी कोई प्रॉब्लम नहीं आई। हिन्दुओं ने मुझे हमेशा इज्ज़त और प्यार दिया है। मुसलमानों से पूछिए कि दीन क्या है, धर्म क्या है। तो वह कहेंगे नमाज पढ़ना, रोजे रखना, हज करना। ये सब धार्मिक प्रथाएं हैं, दीन नहीं है।’

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *