Maharani Laxmibai Medical College of Jhansi, Uttar Pradesh, why the medical college made a "cut-off pillow", why the medical college made a "cut-off pillow" in hindi, nation time hindi news, nation time news

जानें मेडिकल कॉलेज ने क्यों “कटे पैर का तकिया” बना?

उत्तर प्रदेश झांसी के महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज से मेडिकल लापरवाही का एक मामला सामने आया है। बता दें यहां पर डॉक्टरों और नर्सों ने दुर्घटना में घायल शख्स को स्ट्रेचर पर लिटा कर उसी के कटे पैर का तकिया बना दिया था।

प्रशासन ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए एक डॉक्टर समेत चार लोगों को सस्पेंड कर दिया है। मामले की जांच के लिए एक कमेटी गठित कर दी गई है। बताया जा रहा है कि शनिवार को दीपक मेमोरियल स्कूल की बस विद्यालय की ओर जा रही थी। रास्ते में ड्राइवर ने एक ट्रैक्टर ट्राली से टक्कर रोकने के चक्कर में बस से अपना नियंत्रण खो दिया और गाड़ी पलट गई। जिसमें बस क्लीनर घनश्याम का एक पैर कटकर अलग हो गया।

महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल साधना कौशिक ने कहा कि पेशेंट को तुरंत मेडिकल सुविधा मुहैया कराई गई। डॉक्टर मरीज का सिर ऊपर रखने के लिए कोई चीज ढूंढ़ रहे थे। जिसकी वजह से उन्होंने कटे पैर का इस्तेमाल कर लिया। साधना कौशिक के मुताबिक जांच कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

true caller, true caller app, wrong call , wrong msg, black call, nation time hindi news, nation time news

देश की हर तीन में से एक महिला को अश्लील मैसेज और कॉल आते हैं!

स्मार्ट फोन में ट्रू कॉलर नाम का एक ऐप होता है जो कि आपके मोबाइल पर आने वाली लगभग सभी कॉल की डिटेल्स देता है जैसे कि कॉलर का नाम। यह कॉलर का नाम तब भी बताता है जब उसका नंबर आपके फोन में सेव नहीं होता है।

ट्रूकॉलर ऐप ने एक सर्वे जारी किया है  जोकि बहुत ही चौकाने वाला है। ट्रूकॉलर के ‘अंडरस्टैंडिंग द इंपैक्ट ऑफ हैरेसमेंट एंड स्पैम कॉल ऑन वूमन’ सर्वे के मुताबिक, देश की 82 फीसदी महिलाएं मोबाइल पर अश्लील मैसेज और फोन कॉल्स का सामना करती हैं। यानी कि देश की हर तीन में से एक महिला को अश्लील मैसेज और कॉल आते हैं।

सर्वे के मुताबिक, 78 फीसदी महिलाओं को अश्लील कॉल आते हैं। वहीं, 82 फीसदी महिलाएं ऐसी हैं, जिनके पास आपत्तिजनक तस्वीरें और वीडियो आते हैं। इसके अलावा 50 फीसदी महिलाओं को अनजान लोगों के कॉल और मैसेज आते हैं। 11 फीसदी महिलाएं स्टॉकर्स से परेशान हैं। हैरान करने वाली बात ये है कि महिलाओं के पास जो कॉल्स आते हैं, उनमें 3 फीसदी लोग ही ऐसे होते हैं जिन्हें वो जानती हैं।

आजकल बिना फोन नम्बर की जांच किए बिना लोग किसी को भी कॉल लगा देते है जिसकी वजह से कई लोगों को बहुत समस्या का सामना करना पड़ जाता है। खासकर ऐसी फेक कॉल से लड़कियों को समस्या ज्यादा होती है।

Uttar Pradesh,Baba Saheb's idol broke in Azamgarh, Baba Saheb's idol broke in Azamgarh in hindi, nation time hindi news, nation time news

फिर तोड़ी गई बाबा साहब की मूर्ति

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ से मूर्ति तोड़ने का एक मामला सामने आया है। बता दें जहां पर बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की मूर्ति तोड़ी गई।  यह पता नहीं चल पाया है कि यह हरकत किसने की है। इलाके में किसी तरह की अप्रिय घटना न हो इसलिए पुलिस ने मौके पर पहुंच कर हालात को काबू में किया।

बता दें इससे पहले 7 मार्च को उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर के मवाना इलाके में भी अंबेडकर की मूर्ति तोड़ने की घटना हो चुकी है। शुक्रवार को उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के एक गांव में असामाजिक तत्वों ने बाबा साहेब की प्रतिमा तोड़ दिया था। बता दें जिले के एक अधिकारी ने कहा, “असामाजिक तत्वों ने अंधेरे का फायदा उठाकर कानहावाली गांव में अंबेडकर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया।

पूरे देश में अलग-अलग जगह महान पुरूषों की प्रतिमाओं को खण्डित किया जा रहा है। बता दें  ऐसा त्रिपुरा में बीजेपी की जीत के बाद होना शुरू हुआ ।

ADR', Regional parties,Regional parties in hindi, shivsena, sapa, AIADMK, nation time hindi news, nation time news

‘एडीआर’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक ‘क्षेत्रीय दलों’ मेें सबसे ज्यादा अमीर है ‘सपा’

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले पांच सालों में भारत के क्षेत्रीय दलों की संपत्ति में कितनी बढ़ोतरी हुई यह बताया गया है एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि सपा की कुल संपत्ति में करीब 198 फीसदी का इजाफा हुआ है। बताया जाता है कि जिस समय उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की सरकार थी। उस दौरान सपा की संपत्ति में ज्यादा बढ़ोत्तरी हुई है।

बता दें एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक एआईएडीएमके की संपत्ति इन पांच सालों में करीब 155 फीसदी बढ़ी है। और वही दूसरी तरफ शिवसेना की संपत्ति पांच सालों में 92 फीसदी बढ़ी है।  बता दें कि 20 क्षेत्रीय राजनीतिक दलों द्वारा संपत्ति का जो ब्यौरा सौंपा गया है उसमें अचल संपत्ति, लोन, एडवांस, एफडीआर, टीडीएस और इन्वेस्टमेंट भी शामिल है।

अगर हमारे देश में क्षेत्रीय पार्टियों के पास इतना पैसा है तो वो फिर इन पैसों का प्रोयग विकास के कार्यों के लिए क्यों नहीं करती। पैसे होने के बाद भी वह क्यों जनता को सिर्फ और सिर्फ आश्वाशन देती है। आज यह बहस का मुद्दा जरूर होना चाहिए।

CM Kejriwal, delhi cm arvind kejriwal, Sealing in delhi, cm kejriwal big statement, kejriwal will strike hunger, kejriwal will strike hunger in hindi, nation time hindi news, nation time news

सीएम ‘केजरीवाल’ ने क्यों केंद्र सरकार को कहा “वे भूख हड़ताल करेंगे”?

दिल्ली में हो रही सीलिंग पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का बड़ा बयान सामने आया है बता दें शुक्रवार को केजरीवाल ने कहा कि अगर दिल्ली में 31 मार्च तक सीलिंग नहीं रुकी या केंद्र सरकार अध्यादेश नहीं लाई तो वे भूख हड़ताल करेंगे।

बताया जा रहा है कि सीलिंग के बाद अमर कॉलोनी में व्यापारियों के बीच पहुंचे मुख्यमंत्री ने कहा कि यह किसी पार्टी का मुद्दा नहीं है। सभी के समर्थकों की दुकानें सील हो रही हैं। सभी को एकजुट होकर केंद्र सरकार पर दबाव डालना चाहिए। अमर कॉलोनी में गुरुवार को 350 दुकानें सील की गईं थीं।

बता दें केजरीवाल ने पीएम मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दोनों को पत्र लिखकर सीलिंग के मुद्दे पर कानून बनाने की गुहार लगाई है और साथ ही सीएम केजरीवाल ने दोनों  नेताओं से मुलाकात का समय भी मांगा है।

अब देखना यह है कि व्यापारियों की समस्या को कितनी जल्दी केंद्र और राज्य सरकार मिलकर दूर कर पाती है।

up police, Uttar Pradesh State Human Rights Commission,up police in the circle of questions,,up police in the circle of questions in hindi, nation time hindi news, nation time news

सवालों के घेरे में यूपी पुलिस, जानें क्या है वजह?

यूपी पुलिस द्वारा पिछले दिनों किए गए 4 एनकाउंटर की जांच उत्तर प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग  ने शुरू कर दी है। बता दें  एनकाउंटर में मारे गए लोगों के परिजनों ने इन एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए जांच की मांग की थी। बताया जा रहा है कि  पिछले साल 20 मार्च से लेकर अब तक यूपी पुलिस करीब 43 कथित आरोपियों को एनकाउंटर में ढेर कर चुकी है। इनमें से 10 का एनकाउंटर तो इसी साल किया गए हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग ने जिन 4 मामलों की जांच शुरू की है। मानवाधिकार आयोग का कहना है कि चारों एनकाउंटर में यूपी पुलिस ने एक जैसी ही एफआईआर दर्ज की हुई है। एफआईआर के मुताबिक, संदिग्ध मोटरसाइकिल पर जा रहे थे। एक पुलिस टीम ने चेकिंग के दौरान उन्हें रोकना चाहा, इसके बाद संदिग्धों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। इसके जवाब में पुलिस ने भी फायरिंग की, जिसमें संदिग्ध की मौत हो गई और उसका एक साथी भागने में सफल हो गया।

खास बात है कि इन मुठभेड़ों में घायल पुलिसकर्मी अगले ही दिन डिस्चार्ज भी हो गए, साथ ही एनकाउंटर में मारे गए संदिग्धों के साथियों की अभी तक भी पहचान नहीं हो पायी है। उत्तर प्रदेश राज्य मानवाधिकार ने इटावा और आजमगढ़ के जिलाधिकारियों से इन चारों एनकाउंटर की रिपोर्ट मांगी गई है।

Indian industrialists Gautam Adani, Indonesia and Australia poeple againest of Adani, Australia poeple againest of Adani in hindi, nation time hindi news, nation time news

भारतीय उद्योगपतियों गौतम अडानी का विदेश में क्यों हो रहा है विरोध?

भारतीय उद्योगपतियों में अंबानी के बाद आज जिसका सबसे ज्यादा नाम लिया जाता है वह गुजरात के गौतम अडानी हैं। बता दें भारत के अलावा अडानी ने इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया में भी अपने बिजनेस का विस्तार किया है। बता दें अडानी ऑस्ट्रेलिया में कोयला खदान परियोजना पर काम करना चाहते है लेकिन ऑस्ट्रेलिया में कोयला खदान परियोजना को लेकर इन दिनों अडानी का खूब विरोध हो रहा है।

बताया जा रहा है कि पिछले साल जून में ऑस्ट्रेलिया में अडानी की कोयला खदान परियोजना को हरी झंडी मिली थी। इस परियोजना का विरोध करने वालों का कहना है कि ये प्रस्तावित परियोजना पर्यावरण के लिए ख़तरनाक है और इससे वातावरण में प्रदूषण फैलेगा। हालांकि इसका समर्थन करने वाला एक वर्ग भी है। जिसका कहना है कि इससे लोगों को नौकरियां मिलेंगी।

अगर किसी भी परियोजना की वजह से पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है तो ऐसी परियोजना का विरोध होना ही चाहिए क्योंकि अगर पर्यावरण दूषित हुआ तो आगे चलके पृथ्वी पर रहना बहुत मुश्किल हो जाएंगा।

Rahul Gandhi, Congress Party, soniya gandhi, Rahul Gandhi Congress National President, Rahul Gandhi want to significant change,Rahul Gandhi want to significant change in hindi, nation time hindi news, nation time news

“राहुल गांधी” कांग्रेस पार्टी में चाहते हैं ‘अहम बदलाव’ जाने क्या है वजह?

कांग्रेस कें राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी ने पार्टी में अहम बदलाव करने का मन बना लिया हैं। लेकिन इसको लेकर पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेता राहुल गांधी से सहमत नहीं हैं। राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी में सर्वोच्च निर्णय लेनी वाली संस्था कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) के 12 पदों के लिए चुनाव करवाना चाहते हैं। लेकिन उनके इस फैसले से दिग्गज कांग्रेस नेता सहमत नहीं है। पार्टी के वरिष्ठ नेता पहले की ही तरह नामांकन व्यवस्था को जारी रखना चाहते हैं।

बता दें राहुल गांधी की और 19 साल तक कांग्रेस अध्यक्ष रहीं सोनिया गांधी ने भी नामांकन व्यवस्था को बनाए रखा था और पुरानी परंपरा के अनुसार CWC सदस्यों का चुनाव किया गया। बता दें कांग्रेस की रूल-बुक में चुनाव में कराने का प्रावधान है लेकिन राहुल गांधी इसी को फॉलो करना चाहते हैं। कांग्रेस का आंतरिक संविधान कहता है कि CWC के दस सदस्य प्रतिनिधियों द्वारा चुने जाएं जबकि अन्य दस सदस्यों को पार्टी अध्यक्ष चुन सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष की कमान संभालने के बाद राहुल गांधी अपने तरीके से देश की सबसे पुरानी पार्टी को मजबूत करने में जुटे हैं।

अब देखना यह है कि सालों से चली आ रही प्रक्रिया राहुल गांधी के कहने पर बदलती है या फिर CWC सदस्यों के चुनाव की प्रक्रिया पहले की ही तरह रहती है।

Azam Khan, Azam Khan accused of grab land of Dalits, Azam Khan accused of grab land of Dalits in hindi, nation time hindi news, nation time news

आजम खान पर लगा दलितों की जमीन हड़पने का आरोप

रामपुर की जौहर यूनिवर्सिटी इन दिनों विवादों में घिरी हुई है। बता दें लघु उद्योग भारती नामक औद्योगिक संगठन ने आजम खान पर गलत तरीके से दलितों की जमीन खरीदने का आरोप लगाया है। लघु उद्योग भारती संगठन की रामपुर शाखा के अध्यक्ष आकाश कुमार सक्सेना की शिकायत पर राजस्व परिषद ने जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। शिकायत में कहा गया है कि आजम खान ने जौहर यूनिवर्सिटी के लिए 100 बीघा जमीन 10 दलितों से नियमों की अनदेखी करते हुए गलत तरीके से खरीदी है। बता दें सपा नेता आजम खान जौहर यूनिवर्सिटी के चांसलर हैं।

बताया जा रहा है कि नियमों के मुताबिक अनुसूचित जाति के व्यक्ति के नाम पट्टा होने के कारण वह जमीन सामान्य श्रेणी की जौहर यूनिवर्सिटी को नहीं बेची जा सकती थी। लेकिन आजम खान ने अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए यह जमीन जौहर यूनिवर्सिटी के नाम पर खरीदी और अनुसूचित जाति के विक्रेताओं के नाम खतौनी में दर्ज नहीं कराए। इस पूरी खरीद में डीएम की अनुमति भी नहीं ली गई।

हमारे देश की जनता नेताओं को वोट इसलिए देती है ताकि नेता जीतने के बाद उनके हित के लिए कार्य करे लेकिन यहां तो कुछ उल्टा ही होता हुआ नजर आ रहा है। आजम खान पर लगे हुए आरोप अगर सच है तो यह दलितों के साथ बड़ा अनन्या है।