farmer protest continue till mumbai

किसानों का बड़ा प्रदर्शन, मुंबई की कई जगह दिखी लाल

किसानों की हालत इस देस के किसी बी कोने में सही नहीं है। रोज न जाने कितने किसान आत्महत्या कर रहे है और न जाने कितने किसान भूख से मर रहे हैं लेकिन सरकार को किसी से कोई मतलब नहीं है। उन्हें तो सर्फ अपनी सत्ता से प्रेम है। अब तो किसान इतना परेशान हो गया है कि उसे अपने हक के लिए सड़कों पर उतरना पड़ रहा है।

आपको बता दें कि बिना किसी शर्त के ऋणमाफी की मांग करते हुए महाराष्ट्र के किसान सोमवार को सुबह ही दक्षिणी मुंबई के आजाद मैदान में जमा हो गए थे। पिछले छह दिन से तपती धूप में 180 किलोमीटर की यात्रा करने के बाद ये किसान मुंबई के आजाद मैदान पहुंचे। किसानों ने विधानसभा परिसर को घेरा और ऋणमाफी के अलावा किसान, आदिवासी किसानों को वनभूमि हस्तांतरण करने की भी मांग कर रहे थे। इनके हाथों में लाल झंडा होने की वजह से मुंबई के कई इलाके पूरी तरह से लाल नजर आए।

इस बीच किसानों के मुंबई पहुंचने पर मुंबई के डब्बावाले भी आंदोलनकारी किसानों का समर्थन भी किया था। स्थानीय लोगों के साथ मिलकर ये डब्बावाले किसानों को खाना-पानी दे रहे थें। दादर और कोलाबाड के बीच डब्बावाले खाना और पानी जुटाकर किसानों में बांट रहे थें। दूसरी ओर किसान प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि किसानों की समस्याओं को हल करने की दिशा में सरकार काम कर रही है। मोर्चे के पहले दिन से सरकार किसानों से बात कर रही है। सरकार के एक मंत्री गिरीश महाजन उनसे इस मुद्दे पर लगातार बातचीत कर रहे हैं।