scientist stiefen hawking no more

नहीं रहें दिवगंत वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग, शोक में डूबा संसार

आज सुबह से बहुत ही दुखद खबर दुनिया में चल रही है। शायद इस खबर से यह बात सिद्ध होती है कि दुनिया को आज सबसे बड़ा घाटा हुआ है। आपको बता दें कि दुनिया के जाने-माने भौतिक वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग आज हम सभी को अलविदा कह गए। वह 76 साल के थे। हॉकिंग के गुजरने की बात की जानकारी आज सुबह ही उनके परिवार ने दी है। वैज्ञानिक ने अपनी अंतिम सांस अफने घर में ली। उनके बच्चों लूसी, रॉबर्ट और टिम ने इस बारे में आधिकारिक बयान जारी किया।

उनका कहना है कि, “हम पिता के जाने से बेहद दुखी हैं। वह महान वैज्ञानिक थे और असाधारण इंसान थे, जिनका काम और विरासत आने वाले सालों में भी जाना जाएगा।” हॉकिंग ने बिग बैंग सिद्धांत और ब्लैक होल को समझने में खास योगदान दिया है। यही कारण है कि उन्हें अमेरिका के सबसे उच्च नागरिक सम्मान से भी नवाजा जा चुका है। उनकी ब्रह्मांड के रहस्यों पर किताब ‘ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ भी दुनिया भर में काफी मशहूर हुई थी।

अधिक जानकारी के लिए आपको बता दें कि हॉकिंग मूल रूप से ब्रिटेन के रहने वाले थे। मीडिया खबरों के मुताबिक, वह मोटर न्यूरॉन बीमारी से पीड़ित थे। जिसकी वजह से उनके दिमाग को छोड़कर शरीर के बाकी अंग काम नहीं करते थे। वह व्हीलचेयर पर रहते थे। फिर भी विज्ञान की दुनिया में वह अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब रहे। एलबर्ट आइंस्टीन के बाद हॉकिंग दुनिया के सबसे महान सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी बने।