जाट मुस्लिम एकता की कवायद में जुटे चौधरी अजित सिंह

राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह ने मुज़्ज़फरनगर में पार्टी कार्यकर्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा ने यहां साजिश रचकर दो समुदायों को लड़ाया और सत्ता हासिल की। आपको बता दे 2013 में हुए  मुजफ्फरनगर दंगे के बाद वेस्ट यूपी में जाट और मुस्लिम समीकरण पूरी तरह बिखर गया था जिस का सीधा सीधा फायदा  2014 के आम चुनाव  बीजेपी को हुआ था। और  बाकी सभी दल यहां धराशायी हो गए थे। तो वही अब 2019 के चुनावों को ध्यान में रखते हुए  मंगलवार को रालोद अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह अपने दो दिवसीय प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत दिल्ली से सरकुलर रोड स्थित पार्टी कार्यालय पर पहुंचे। उन्होंने पार्टी के नवनिर्मित भवन के साथ ही साथ चौधरी चरण सिंह हॉल का भी लोकार्पण किया।

चौधरी अजित सिंह ने अपने पूरे  मुज़्ज़फरनगर दौरे के दौरान बीजेपी पर जमकर निशाना साधा और  कहा कि भाजपा फिर से दंगा कराने की फिराक में है, ऐसे में  दंगा रोकने की ताकत यदि किसी में है तो वो रालोद  है। सम्प्रदायिकता के आधार पर सत्ता में पहुंचने का आरोप लगाते हुए चौधरी अजित सिंह ने कहा की जिस जिले में 1947 में बंटवारे के दौरान व  1992 के बाबरी कांड के बाद भी दंगे नहीं हुए वहां भी  भाजपा ने साजिशन दंगा करा दिया जिससे गांवों का पूरा सामाजिक ताना बाना छिन्न भिन्न हो गया। जिसे अब फिर से खड़ा करने की जरूरत है और राष्ट्रीय लोकदल हर प्रयास कर रहा है और करेगा।

क्या शहजाद पूनावाला कांग्रेस का हाथ छोड़ बीजेपी में कमल खिलाने चाहते हैं?

कांग्रेस के युवा नेता शहजाद पूनावाला के पिछले बयान में वो अपनी ही पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी के विपक्ष में अध्यक्ष के चुनाव में खड़े होने की बातें कर रहे थे और अब ऐसे में शहजाद ने राहुल गांधी पर एक बार फिर से निशाना साधा था शहजाद पूनावाला ने कहा है कि कांग्रेस राहुल के खिलाफ डमी उम्मीदवार उतारेगी जिससे वे आसानी से जीत जाए .उन्होंने कहा है मेरी पार्टी के इतिहास में ये सबसे काला दिन है.. और इसके बाद  शहजाद ने वंशवाद का मुद्दा उठाते हुए राहुल गांधी पर हमला बोला . इतना ही नही शहजाद ने ट्वीट पर भी लिखा कि  ‘’ पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने बताया है कि वंशवाद के सलाहकार शहजादा के खिलाफ डमी कैंडिडेट उतारने की सोच रहे हैं. वाकई!! इतना नाटक क्यों?’’ उन्होंने आगे लिखा कि  ‘’एक शुभचिंतक ने सलाह दी है कि शहजाद आज कांग्रेस दफ्तर पहुंचकर दूसरे सफदर हाशमी मत बनना.‘’ बता दें कि कल गुजरात में रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शहजाद पूनावाला के बयान का जिक्र करते हुए कहा था, ”शहजाद नाम के एक युवक ने कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव को लेकर अपनी आवाज उठाई थी, शहजाद महाराष्ट्र में कांग्रेस के नेता है. कांग्रेस में उस युवक की आवाज दबाने की कोशिश हुई और सोशल मीडिया ग्रूप से उसे निकाल दिया गया.” पीएम ने कहा, ”जहां आंतरिक लोकतंत्र नहीं है वहां आम जनता के लिए काम नहीं हो सकता. इस युवक ने बड़ी हिम्मत का काम किया है, लेकिन दुख की बात है की ऐसा कांग्रेस में हमेशा होता है.” पीएम मोदी के इस बयान के बाद शहजाद ने उनको शुक्रिया भी कहा. अब ऐसे में प्रधानमंत्री द्वारा शेहजाद का ज़िक्र करना और पीएम मोदी को धन्यवाद शेहजाद द्वारा कहना एक सीधा सीधा संकेत देता दिख रहा है कि क्या शेहजाद पूनावाला कांग्रेस का हाथ को छोड़ कर बीजेपी में कमल खिलाने चाहते है