मायावती का बीजेपी पर तंज, नफरत की राजनीति करती है बीजेपी

बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भाजपा पर जातिवादी, साम्प्रदायिक और नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाया। साथ ही कहा कि इससे लोगों में असुरक्षा की भावना पनप रही है। बता दें मायावती ने यह बयान तब दिया जब वह शनिवार को पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों तथा वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं के साथ बैठक कर रही थीं।
मायावती ने कहा कि भाजपा शासन में हिंसा, डर और आतंक का माहौल है। पूरे समाज के मेहनतकश लोग तथा व्यापारी अपने को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। साथ ही कहा प्रदेश में अपराधों की बाढ़ आ गई है। साम्प्रदायिक दंगे सबसे ज्यादा हुए हैं। विकास सिर्फ फर्जी और हवा-हवाई ही है। इसका जमीनी हकीकत से कोई वास्ता नहीं है

आगे वह कहती हैं कि “प्रदेश में महंगाई, बेरोजगारी तथा गरीबी यहां की ध्वस्त कानून-व्यवस्था की तरह पूरी तरह से बेकाबू है। सरकार युवाओं को रोजगार नहीं दे पा रही है। आने वाले दिनों में बेरोजगारी भयानक रूप धारण कर सकती है। प्रदेश में अभी हाल ही में हुए शहरी निकाय के चुनाव में सत्ताधारी भाजपा को यहां की जनता ने जबरदस्त झटका दिया। इसके बाद भी भाजपा सरकार की जातिवादी, साम्प्रदायिक और नफरत की संकीर्ण व नकारात्मक राजनीति जारी है।“
मायावती ने कहा कि लोकसभा के चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद इसी साल मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में चुनाव से देश में माहौल बदल जाएगा।

मायावती का बीजेपी पर हमला, मध्य प्रदेश के किसानों को बताया सबसे ज्यादा दुखी

बसपा प्रमुख मायावती ने रविवार को कहा कि मध्य प्रदेश एक कृषि प्रधान राज्य है और राज्य सरकार की प्राथमिकता किसान तथा मजदूर हितैषी होनी चाहिये लेकिन वहां भाजपा के शासनकाल में ख़ासकर किसान तथा खेतिहर मजदूर वर्ग के लोग सबसे ज़्यादा दुःखी और परेशान हैं। साथ ही मायावती ने मध्य प्रदेश में बसपा के पदाधिकारियों के साथ बैठक की और पार्टी संगठन की तैयारियों तथा पूरे समाज में पार्टी के जनाधार को मज़बूत बनाने के साथ-साथ इसी वर्ष वहां होने वाले विधानसभा चुनाव को पूरी तैयारी के साथ लड़ने के संबंध में गहन चर्चा की। मायावती ने कहा कि जब किसान तथा खेतिहर मजदूर वर्ग के लोग अपनी मांगों के समर्थन में आन्दोलन के लिए सड़क पर उतरते हैं तो तब उन्हें सरकार अपनी मनमानी तरीके से चलाती है तथा जुल्म-ज्यादती का शिकार बनाती है, जो काफी दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है।

भाजपा पर मायावती ने आरोप लगाते हुए कहा कि मध्य प्रदेश में भी भाजपा की सरकार खासकर यहां दलितों, पिछड़ों, मुस्लिम तथा अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों आदि के साथ-साथ किसान वर्ग के साथ भी बर्बर व्यवहार कर रही है। इतना ही नहीं बल्कि आरएसएस की संकीर्ण, नफरत तथा विघटनकारी सोच को सर्वसमाज के लोगों पर जबरदस्ती थोपने के लिये संविधान तथा कानून को पूरी तरह से ताक पर रख दिया गया है। साथ ही कहा, मध्य प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति भी अच्छी नहीं है।

मायावती ने कहा कि राजस्थान की तरह ही दूसरे पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश में भी भाजपा की जनविरोधी सरकार जाने वाली है। वहां होने वाले इस सुखद परिवर्तन में बसपा को अपनी ख़ास भूमिका निभानी है।

madhye pradesh,t. raja, vivadit bayan, hindu, rss, musalman, nrendre modi, yogi adityanath

टी. राजा का विवादित बयान, बताया असली हिंदू और नकली हिंदू में फर्क

ऐसा लगता है बीजेपी पार्टी के विधायक टी. राजा एक कट्टर हिंदूवादी हैं क्योंकि जिस तरह वो आए दिन अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में हैं उससे यही लगता है कि वो पूर्ण हिंदूवादी विचारधारा के व्यक्ति हैँ। अभी कुछ दिन पहले टी. राजा ने कासगंज हिंसा पर बयान दिया था कि अगर मुसलमानों के घर की तालाशी ली जाए तो उनके घर AK 47 निकलेंगी।

एक बार फिर हैदराबाद से विधायक टी. राजा सिंह ने बयान दिया है कि “अगर आप RSS की तरफ से आयोजित रोजाना बैठक या ‘शाखा’ में हिस्सा नहीं लेते तो आप असली हिंदू नहीं है,  उन्होंने यह विवादित बयान मध्य प्रदेश में बड़ी रैली को संबोधित करते हुए दिया। उन्होंने आगे कहा देश के हर नागरिक को अपने ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ का जयकार करना चाहिए और जो ऐसा नहीं करते उन्हें ‘देश छोड़ देना चाहिए।

मीडिया खबरों के मुताबिक, टी. राजा ने कहा कि “RSS एक ऐसी ‘फैक्ट्री’ है जहां से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे ‘आइकन’ निकलते हैं। बता दें मध्य प्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने है। तो ऐसे में अटकले लगाई जा रही है कि ये आने वाले चुनावों की तैयारी में खेली गई राजनीति है। अब देखना यह है कि आने वाले चुनाव पर इस बयान का कितना असर पड़ता है और चुनाव परिणाम क्या निकलते है।