MPs and MLAs" of Modi running 'case', UP, MODI ,nation time hindi news, nation time news

मोदी के इतने “सांसदों-विधायकों” पर चल रहा है ‘केस’

मोदी सरकार ने अपने हलफनामे में सुप्रीम कोर्ट को यह जानकारी दी है कि देशभर में 1700 से ज्यादा सांसद और विधायक इस वक्त करीब तीन हजार से ज्यादा आपराधिक मुकदमों में अलग-अलग अदालतों में ट्रायल का सामना कर रहे हैं।

बता दें कि इस मामले में उत्तर प्रदेश सबसे ऊपर है और यहां के 248 सांसद-विधायक ट्रायल का सामना कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट में सौंपे गए हलफनामे में यूपी के बाद तमिलनाडु के 178, बिहार के 144 और पश्चिम बंगाल के 139 माननीय इन दिनों अदालतों के चक्कर लगा रहे हैं।

दक्षिणी राज्यों आंध्र प्रदेश, केरल और तेलंगाना में भी हालात अच्छे नहीं हैं। यहां करीब 100 जनप्रतिनिधि अलग-अलग मुकदमों में अदालती ट्रायल का सामना कर रहे हैं। बता दें सुप्रीम कोर्ट में सौंपे जवाबी हलफमाने में केंद्र ने कहा है कि साल 2014 से 2017 के बीच करीब 1765 सांसद-विधायक 3816 आपराधिक मुकदमों में ट्रायल का सामना कर रहे हैं। देशभर के हाईकोर्ट से इस मामले में पिछले पांच मार्च को ये आंकड़े जुटाए गए थॉ

अब देखना यह है कि इनमें से कितने सांसद-विधायकों को आपराधिक मुकदमें से रिहाई मिलती है और कितनों को सजा मिलती है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने PM मोदी को किसानों,युवाओं के मुद्दे पर जमकर घेरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसद में दिए भाषण पर पलटवार करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा की पीएम नरेंद्र मोदी ने एक घंटे से अधिक समय तक भाषण दिया लेकिन राफेल डील पर एक शब्द तक नहीं बोला।बल्कि इसे राजनीतिक भाषण बताते हुए राहुल गाँधी ने किसानों,युवाओं के रोजगार के मुद्दों पर घेरते हुए कहा की मोदी जी अब प्रधानमंत्री बन चुके हैं, उन्हें सवालों के जवाब देने चाहिए ना की हमेशा विपक्ष पर आरोप लगाने चाहिए।वही उन्होंने कहा कि पीएम ने देश को एक साल में 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी, लेकिन आज तक ऐसा नहीं हुआ है।गौरतलब है की राहुल गांधी राफेल विमान सौदे को लेकर मोदी सरकार पर न सिर्फ हमला बोला, बल्कि घोटाले का आरोप लगाते हुए कहा कि सौदे  में कोई पारदर्शिता नहीं बरती है बल्कि मोदी सरकार ने राष्ट्रीय हित एवं सुरक्षा के साथ सौदा भी किया है।

 

वहीं लोकसभा में विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच अपने भाषण की शुरुआत में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला था ।भाषण के दौरान विपक्षी सांसद नारेबाजी करते रहे जबकि मोदी ने कहा कि सदन में सार्थक चर्चा हुई है।

इस रिपोर्ट में हुआ गरीबी और अमीरी के बीच बढ़ती खाई का खुलासा ,राजनीती चर्म पर ?

ऑक्सफेम के हालिया सर्वेक्षण में कहा गया है कि 2017 में भारत की कुल संपदा का 73 प्रतिशत भाग देश की एक प्रतिशत अमीर आबादी के पास है ‘ऑक्सफेम’ की ओर से यह सर्वेक्षण दावोस में आयोजित विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की शिखर बैठक शुरू होने से कुछ घंटे पहले जारी किया गया था। इस पूरी रिपोर्ट पर ऑक्सफेम की सीईओ निशा अग्रवाल नें कहा कि कि ‘यह अत्यंत चिंता का विषय है कि देश की अर्थव्यवस्था में हुई वृद्धि का फायदा मात्र कुछ लोगों के हाथों के सिमटा जा रहा है  अरबपतियों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी फलती-फूलती अर्थव्यवस्था की नहीं बल्कि एक विफल अर्थव्यवस्था की निशानी है. जो मेहनत कर रहे हैं, देश के लिए भोजन की व्यव्स्ता कर रहे हैं, मकान व इमारतों का निर्माण कर रहे हैं, कारखानों में काम कर रहे हैं, वें अपने बच्चे को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए, दवाओं को खरीदने व अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी तक जुटा पाने के लिए अत्यंत संघर्ष कर रहे हैं. यह बढ़ती खाई, लोकतंत्र को खोखला बनाती है और भ्रष्टाचार व पक्षपात को बढ़ावा देती है ।

  अब इस पूरे मुद्दे पर राजनीती भी गर्म होती जा रही है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने मंगलवार को ट्वीट कर प्रधानमंत्री पर जोरदार हमला किया है उन्होंने अपने ट्वीट में कहा की , “प्रिय प्रधानमंत्री, स्विट्ज़रलैंड में आपका स्वागत है! कृपया दावोस में बताएं कि भारत की 1% आबादी के पास देश की 73% संपत्ति क्यों है ? विश्व आर्थिक मंच की बैठक में भाग लेने के लिए दावोस गए प्रधानमंत्री पर राहुल का यह कोई पहला हमला नहीं है इस से पहले बकी वह उनकी विदेश यात्राओं तथा उनकी सरकार पर अमीरों के लिए काम करने और उनके ऋण माफ करने को लेकर निरंतर हमला करते रहे हैं. राहुल के ट्वीट पर पलट वॉर करते हुए बीजेपी नेता राममाधव ने कहा, ”यही बातें पहले भी सामने आई थीं। हमारी सरकार में प्रधानमंत्री ने तय किया है कि इकोनॉमी का फायदा आखिरी लाइन में खड़े व्यक्ति को भी मिले।
कैसे किया गया सर्वे ?
1. सर्वे में 10 देशों के 1 लाख 20 हजार लोगों को शामिल किया गया। सर्वे में हिस्सा लेने वाले करीब दो तिहाई लोग सोचते हैं कि अमीर और गरीब के बीच की खाई को जल्द पाटना चाहिए।

2. सर्वे में शामिल अमेरिका, ब्रिटेन और भारत के लोगों ने CEOs की सैलरी में 60% तक कटौती करने की बात कही।

bjp-make-a-plan-to-win-in-west-bengal

बंगाल में ममता को मात देने के लिए बीजेपी का है ये प्लान

बीजेपी ने वैसे तो हर जगह ही अपनी सरकार बना ली है और हाल ही में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भी बीजेपी ने अपनी जीत का प्रचम लहरा दिया है। अब पश्चिम बंगाल में भी अपने पैर जमाने के लिए बीजेपी की नजर अब पंचायत चुनावों पर पड़ गई है।

आपको बता दें कि राज्‍य में सत्‍तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को चुनौती देने के लिए पार्टी नेतृत्‍व अभी से ही रणनीति तैयार करने में जुट गई है। पश्चिम बंगाल में मुस्लिम वोट बैंक काफी ज्यादा है और इसी के महत्‍व को देखते हुए बीजेपी ने ज्‍यादा मुस्लिमों को टिकट देने की खास योजना तैयार कर दी है। साथ ही 11 जनवरी को अल्‍पसंख्‍यक समुदाय को लेकर एक बड़े स्तर पर सम्‍मेलन आयोजित करने की भी तैयारी काफी हद तक पूरी हो गई है। सम्‍मेलन को केंद्रीय अल्‍पसंख्‍यक प्रकोष्‍ठ के अध्‍यक्ष अब्‍दुल राशिद अंसारी के साथ ही पश्चिम बंगाल के बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष और वरिष्‍ठ नेता मुकुल रॉय संबोधित करेंगे।

इतना ही नहीं बीजेपी राज्‍य अल्‍पसंख्‍यक प्रकोष्‍ठ के अध्‍यक्ष अली हुसैन का कहना है कि पार्टी ने पंचायत चुनावों में ज्‍यादा से ज्‍यादा मुस्लिम उम्‍मीदवारों को मैदान में उतारने की एक खास योजना का निर्माण किया है। इसके साथ ही उन्‍होंने आगे कहा कि, ‘विपक्षी दलों के दुष्‍प्रचार की वजह से अल्‍पसंख्‍यकों के बीच बीजेपी को लेकर काफी गलत धारणा बन चुकी है। हम सभी लोग मिलकर लोगों की इस गलतफहमी को दूर करने की पूरी कोशिश करेंगे।

पूरी दुनिया में बड़ी तादाद में मुस्लिम हमारी पार्टी में शामिल होते जा रहे हैं। पश्चिम बंगाल भी कोई अपवाद नहीं है। यहां भी हमें मुस्लिमों का काफी ज्यादा समर्थन मिल रहा हैं। पंचायत चुनावों में हमारी पार्टी बड़ी संख्‍या में मुस्लिम प्रत्‍याशियों को टिकट देगी। 11 जनवरी को होने वाले सम्‍मेलन की मदद से उन्‍हें यह संदेश दे दिया जाएगा।’

owaisi-questioned-why-rahul-not-go-in-mosque

राहुल मंदिर गए मस्जिद या दरगाह क्यों नहीं गए : ओवैसी

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव खत्म होने के बाद आज एक बार फिर गुजरात की ओर जाते हुए नजर आए हैं, जहां उन्होंने पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने से पहले सोमनाथ मंदिर जाकर दर्शन किए। चुनाव प्रचार के दौरान राहुल के मंदिर दौरों पर पहले तो भारतीय जनता पार्टी ने कई सवाल खड़े किए थे, वहीं अब ऑल इंडिया मुस्लिम इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी उनके मंदिर दौरे की काफी आलोचना की है।

आपको बता दें कि ओवैसी ने कहा कांग्रेस के नए अध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात के सोमनाथ मंदिर में दर्शन करने गए और उन्होंने मुसलमानों की साफ तौर पर अनदेखी की। उन्होंने ये भी कहा कि राहुल किसी मस्जिद या दरगाह में दर्शन करने के लिए क्यों नहीं गए मंदिर ही क्यों गए। यहां तक कि किसी मुस्लिम नेता के साथ उनकी कोई तस्वीर भी अब तक सामने नहीं आई है।

आपको बता दें कि गुजरात में चुनाव प्रचार करते समय राहुल गांधी ने 27 छोटे-बड़े मंदिरों में दर्शन किए। यहां तक कि राहुल ने गुजरात नवसर्जन यात्रा की शुरुआत करने से पहले द्वारकाधीश मंदिर में दर्शन किए थे। चुनाव प्रचार के दौरान राहुल के इस बदले रूप को पहले तो कांग्रेस का सॉफ्ट हिंदुत्व कहा गया और बाद में बीजेपी ने उनके मंदिर दौरों को राजनीतिक स्टंट का करार दिया।

वहीं दूसरी तरफ राहुल ने चुनाव प्रचार के दौरान मुस्लिम संगठनों और मुस्लिम नेताओं को सार्वजनिक मंचों से काफी दूर रखा, जिससे पार्टी की छवि बदलने की रणनीति का नाम दे दिया गया।

 

bjp MLA says bad words about jignesh

पैसे देकर राहुल ने खरीदे तीन गंदगी खाने वाले जानवर : बीजेपी विधायक

बीजेपी की सरकार के कुछ नेता शुरू से ही अपने कड़े बयानों को लेकर काफी सुर्खियां बिटोरते नजर आए हैं। हाल ही में पहले विधायक पन्ना लाल ने विराट कोहली को देशद्रोही बताया था और अब मध्य प्रदेश के उज्जैन से बीजेपी सांसद चिंतामण मालवीय ने गुजरात में वडगाम सीट से निर्दलीय चुनाव जीतने वाले दलित नेता जिग्नेश मेवाणी पर अपने तीखें हमलों की बौछार कर दी है। बीजेपी सांसद ने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्ट करके लिखा है कि पैसे देकर राहुल गांधी ने तीन गंदगी खाने और गंदगी फैलाने वाले जानवर खरीद लिए है। यहां तक की उन्होंने जिग्नेश की कॉकरोच से भी तुलना कर दी है।

आपको बता दें कि बीजेपी सांसद का यह पोस्ट जिग्नेश मेवाणी के उस बयान के बाद आया है, जिसमें नवनिर्वाचित विधायक ने कहा था कि पीएम मोदी को अब रिटायर हो जाना चाहिए वह अब बूढ़े हो चुके है। जिग्नेश के इस बयान ने राजनीति को काफी तीखे मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया था। हालांकि, अब जिग्नेश ने यह कहा है कि वह अपने बयानों के लिए माफी नहीं मांगेंगे।

बीजेपी सांसद ने इसी मामले पर चर्चा करते हुए फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि, ‘पैसे देकर राहुल ने तीन गंदगी खाने और फैलाने वाले जानवर खरीद लिए पर इनमें संस्कार कहां से लाएंगे।’ जिग्नेश तुम खुद नीरस हो गए हो अपने आप से ओर आपकी गंदी राजनीति से आप खुद बोर हो गए हो इसलिए आपको दुनिया बोरिंग लग रही है।

सांसद की पूरी फेसबुक पोस्ट

"पैसे देकर राहुल ने 3 गन्दगी खाने और फैलाने वाले जानवर खरीद लिए पर इनमे संस्कार कहा से लाएंगे " जिग्नेश तुम खुद नीरस हो …

Posted by Chintamani Malviya on Wednesday, December 20, 2017

क्या शहजाद पूनावाला कांग्रेस का हाथ छोड़ बीजेपी में कमल खिलाने चाहते हैं?

कांग्रेस के युवा नेता शहजाद पूनावाला के पिछले बयान में वो अपनी ही पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी के विपक्ष में अध्यक्ष के चुनाव में खड़े होने की बातें कर रहे थे और अब ऐसे में शहजाद ने राहुल गांधी पर एक बार फिर से निशाना साधा था शहजाद पूनावाला ने कहा है कि कांग्रेस राहुल के खिलाफ डमी उम्मीदवार उतारेगी जिससे वे आसानी से जीत जाए .उन्होंने कहा है मेरी पार्टी के इतिहास में ये सबसे काला दिन है.. और इसके बाद  शहजाद ने वंशवाद का मुद्दा उठाते हुए राहुल गांधी पर हमला बोला . इतना ही नही शहजाद ने ट्वीट पर भी लिखा कि  ‘’ पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने बताया है कि वंशवाद के सलाहकार शहजादा के खिलाफ डमी कैंडिडेट उतारने की सोच रहे हैं. वाकई!! इतना नाटक क्यों?’’ उन्होंने आगे लिखा कि  ‘’एक शुभचिंतक ने सलाह दी है कि शहजाद आज कांग्रेस दफ्तर पहुंचकर दूसरे सफदर हाशमी मत बनना.‘’ बता दें कि कल गुजरात में रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शहजाद पूनावाला के बयान का जिक्र करते हुए कहा था, ”शहजाद नाम के एक युवक ने कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव को लेकर अपनी आवाज उठाई थी, शहजाद महाराष्ट्र में कांग्रेस के नेता है. कांग्रेस में उस युवक की आवाज दबाने की कोशिश हुई और सोशल मीडिया ग्रूप से उसे निकाल दिया गया.” पीएम ने कहा, ”जहां आंतरिक लोकतंत्र नहीं है वहां आम जनता के लिए काम नहीं हो सकता. इस युवक ने बड़ी हिम्मत का काम किया है, लेकिन दुख की बात है की ऐसा कांग्रेस में हमेशा होता है.” पीएम मोदी के इस बयान के बाद शहजाद ने उनको शुक्रिया भी कहा. अब ऐसे में प्रधानमंत्री द्वारा शेहजाद का ज़िक्र करना और पीएम मोदी को धन्यवाद शेहजाद द्वारा कहना एक सीधा सीधा संकेत देता दिख रहा है कि क्या शेहजाद पूनावाला कांग्रेस का हाथ को छोड़ कर बीजेपी में कमल खिलाने चाहते है