Rahul Gandhi,PNB SCAM,Arun Jaitley, nation time hindi news, nation time news

पीएनबी महाघोटाले को लेकर राहुल गांधी ने अरुण जेटली पर कसा तंज

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएनबी महाघोटाले को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली पर हमला बोला है और राहुल गांधी ने एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए यह कहा कि  “अब यह सामने आ चुका है कि पीएनबी घोटाले पर हमारे वित्त मंत्री की चुप्पी उनकी वकील बेटी को बचाने को लेकर थी, जिन्हें इस घोटाले के सार्वजनिक होने से मात्र एक महीने पहले आरोपी ने मोटी फीस दी थी। जब आरोपी के दूसरे लॉ फर्मों पर सीबीआई द्वारा छापा मारा जा रहा है, तो उसके लॉ फर्म पर क्यों नहीं?” राहुल गांधी ने इस ट्वीट के साथ #ModiRobsIndia हैशटैग डाला है।

बता दें कि 11 हजार 400 करोड़ के पीएनबी घोटाले को लेकर कांग्रेस मोदी सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस मामले में लगातार पीएम नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली से जवाब मांग रहे हैं।

राहुल गांधी द्वारा बोली गई यह बात कितनी सच साबित होती है। यह तो सीबीआई जांच की रिपोर्ट के बाद ही पता चल ही पाएगा लेकिन उससे पहले यह देखना बेहद दिलचस्प होगा कि वित्त मंत्री अरुण जेटली राहुल के इस बयान पर क्या प्रतिक्रिया देते है।

PNB scam, shatrughan sinha attacks on modi

PNB घोटाला: शत्रुघ्न सिन्हा ने कसा तंज, इस बार निशाने पर पीएम की जगह पीएमओ

नीरव मोदी द्वारा किया गया 11 हजार करोड़ के घोटाले का विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। जैसे ही ये मामला हुआ है वैसे ही सभी विपक्षी दलों ने सरकार पर तंज कसना शुरू कर दिया है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा ने भी पीएम नरेंद्र मोदी पर ताना मारा है लेकिन इस बार निशाने पर पीएम मोदी नहीं है बल्कि उनका दफ्तर है। पीएनबी बैंक घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के दावोस में विश्व आर्थिक मंच पर पीएम मोदी के साथ मंच साझा करने पर उन्होंने सवाल खड़े किए हैं।

भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा का कहना है कि जब पीएमओ उन्हें पीएम मोदी के साथ मंच साझा करने से रोका सकता है तो फिर घोटाले के आरोपी को कैसे हरी झंडी दी गई? क्या जानबूझकर पीएमओ नीरव के कुंडली पर आसन मारकर सोया रहा? शत्रुघ्न सिन्हा ने सोशल मीडिया पर लिखा है, “कई सरकारी कार्यक्रमों में, मेरे पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में भी, मुझे (पटना का मौजूदा सांसद) और कई पूर्ववर्ती छात्रों (यशवंत सिन्हा समेत कई लोग) को इजाजत नहीं थी कि पीएम मोदी के साथ मंच पर जाएं क्योंकि पीएमओ द्वारा अप्रूव लिस्ट में नाम नहीं था। अब मंत्रालय कह रहा है कि नीरव मोदी को दावोस में निमंत्रण नहीं दिया गया था लेकिन वो मंच पर विराजमान थे।

उन्होंने आगे यह भी कहा है कि मैं तो सिर्फ इस विषय को संज्ञान में लाना चाहता हूं कि क्या हमेशा चौकन्ना रहनेवाला पीएमओ इस विषय पर सो रहा था या फिर नीरव मोदी के कुंडली पर आसन मारकर बैठा था और जानबूझकर पीएम के साथ उद्योगपतियों के समूह में जाने दिया गया? कृपया इस पर प्रकाश डालें।”